भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पतंग / नीलम पारीक

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:52, 25 जून 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जद कदैई देखूं
आकासां उड़ता पतंग
रंग बिरंगा
लाल, पीला, नीला, धोला,
उड़ता, लहरांता, पेच लडान्ता,
तो लागे जाणे मैं भी
एक पतंग ही तो हूँ
जिणरी डोर कोई रे हाथ में नी
फगत एक तार स्यूं बांधर छोड़ दी है
उड़ तो सकूँ
पर उतनो ही
जित्ती डोर अरगनी स्यूं बन्धी है
ना आगे न लारे
कोई रे हाथ में ही नी है
फेर भी बस बन्धी बन्धी सी
काश या तो कोई थाम ले डोर
या फेर टूट ही जावे
कीं तो हो
के ठा किस्मत कीं सावळ ही हो
लाग जावे ऊपर ली हवा
और मैं उड़ती जाऊँ
उड़ती जाऊँ
दूर गिगना स्यूं पार
अर जा मिलूं
साँवरे सेती
जा मिलूं साँवरे सेती