भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पता चलता है / गौरव गिरिजा शुक्ला

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:15, 11 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गौरव गिरिजा शुक्ला |अनुवादक= |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जश्न हो तो, रेत की तरह फिसलता है,
इंतज़ार करो किसी का, तो वक़्त का पता चलता है।

हालात अच्छे हों तो हर कोई अच्छा रहता है,
वक्त बुरा आए तो इन्सां का पता चलता है।

मुफ़लिसी में तकलीफ़ तो है मगर ये फ़ायदा भी,
दोस्तों की शक्ल में दुश्मनों का पता चलता है।

रिश्ता नहीं, ख़बर नहीं, सिलसिला नहीं, मगर फिर भी,
मेरी कलम की स्याही से वफ़ा का पता चलता है।

बेशक तू दूर है मुझसे मगर जुदा नहीं,
मेरे सीने में आज भी तेरी धड़कन का पता चलता है।

सब कुछ छिपा सकते हो मगर ये नाज़ुक अहसास नहीं,
नज़रों ही नज़रों में मुहब्बत का पता चलता है।

ख़ुदा न करे किसी को मदद की भीख मांगनी पड़े,
ऐसे मौकों पर ही अपनों का पता चलता है।

छोड़कर मां-बाप को कैसे सजा लेते हैं आशियाँ,
घर में बुज़ुर्ग हों तो दुआओं का पता चलता है।

ऊंची मीनारें खूबसूरती तो बयां करती हैं,
मगर तवारीख़ से उनकी बुनियाद का पता चलता है।