भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

पद / 3 / सरस्वती देवी

Kavita Kosh से
Jangveer Singh (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:36, 19 दिसम्बर 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सरस्वती देवी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


नारी-धर्म अनेक हैं, कहौं कहाँ लगि सोय।
करहु सुबुद्धि विचार ते, तजहु जु अनुचित होय॥

हानि लाभ निज सोचि कै, काजहि होहु प्रवृत्त।
सुख पायहु तिहँ लोक में, यश बाढ़ै नित नित॥

ऐसी नहीं हम खेलनहार बिना रस-रीति करें बरजोरी।
चाहै तजौ तजि मान कहौ फिरि जाहिं घरे वृषभानु-किशोरी॥

चूक भई हम से तो दया करि नेकु लखो सखियान की ओरी।
ठाढ़ी अहै मन-मारि सबै बिन तोहिं बनै नहिं खेलत होरी॥