भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परदा उठी रहलोॅ छै / प्रदीप प्रभात

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:03, 5 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रदीप प्रभात |अनुवादक= |संग्रह= }} {...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सच्चाई रोॅ परदा आबेॅ उठी रहलोॅ छै।
स्वार्थ रोॅ मूर्ति साफ दिखाय रहलोॅ छै॥
जे आदमी समानता रोॅ पाठ पठावै छेलै।
ऊ आदमी आबेॅ झूठ नजर आबेॅ लागलै॥
हिनकोॅ दामन छेलै उजरोॅ दग-दग।
आबेॅ धब्बा नजर आबेॅ लाग लै॥
पढ़ै आरो पढ़ाबै छेलोॅ गॉधी विचार।
यहोॅ आबेॅ धुमिल नजर आबै छौ॥
स्वार्थ रोॅ जोॅड़ ऐतना नींचू चल्लोॅ गेलोॅ छौं।
देखोॅ प्रताप के पीछु मान सिंह भाला तानी खड़ा छौ॥
सम्हरै के मौका छौं, आमियोॅ सम्हरोॅ।
नै तेॅ कोरामीन के गोली भी नै बचै तौ॥