भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परोस दिया भात जी / हरियाणवी

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:53, 11 जुलाई 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=हरियाणवी |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह= }} {{...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


धोया धोया थाल परोस दिया भात जी
आओ आओ जीजाजी बैठो म्हारै साथ जी
बैठो म्हारै साथ बताओ थारी जात जी

बाप म्हारा बैली, माँ ए चिंडाल जी
चारों भाई चोरटा, बैण उदाल जी
बुआ म्हारी बगतन, मोड्या रै साथ जी

धोया धोया थाल परोस दिया भात जी
आओ आओ साला जी बैठो म्हारै साथ जी
बैठो म्हारै साथ बताओ थारी जात जी

बाप म्हारा राजा जी, माँ पटराणी जी
चारों भाई सत्तर साँ, बैण सुदाल जी
बुआ म्हारी सौदरा रसोइयाँ रै माए जी।
-०-
( शारदा सैनी ( हाँसी ) के सौजन्य से प्राप्त