भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"पाँच मूर्तियाँ / हरिवंशराय बच्चन" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हरिवंशराय बच्चन }} तुमने प्रतिमा ...' के साथ नया पन्ना बनाया)
 
पंक्ति 5: पंक्ति 5:
  
  
तुमने
+
यह विखंडित मूर्ति
  
प्रतिमा का सिर काट लिया,
+
मथुरा की सड़क पर
  
पर लोगों ने उसे सिर झुकाना नहीं छोड़ा है।
+
मिली मुझको,
  
तुमने मूर्ति को नहीं तोड़ा,
+
शीश-हत,
  
लोगों की आस्‍था को नहीं तोड़ा है।
+
जाँघें पसारे
  
और आस्‍था ने
+
::खुले में विपरीत-रति-रत
  
बहुत बार
+
::अरे, यह तो पंश्‍चुली है!
  
कटे सिर को कटे धर से जोड़ा है।
+
 
 +
शेष भाग शीघ्र ही टंकित कर दिया जाएगा।

20:11, 11 दिसम्बर 2011 का अवतरण


यह विखंडित मूर्ति

मथुरा की सड़क पर

मिली मुझको,

शीश-हत,

जाँघें पसारे

खुले में विपरीत-रति-रत
अरे, यह तो पंश्‍चुली है!


शेष भाग शीघ्र ही टंकित कर दिया जाएगा।