भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पांच बधावा म्हारे आविया / मालवी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:04, 29 अप्रैल 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=मालवी }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पांच बधावा म्हारे आविया
पांचों री नवी-नवी भांत
घड़ा मारूजी पेलो बधावो कांकड़े आवियो
कांकड़िया रे म्हारा खेतघणा घड़ामारू
धंवला तो धोरी म्हारयां हल बावे
दूसरो बधावो बागां में आवियो
नारेलांरी लागी लटालूम
दाख-चारोल्यां म्हारायां बहुफले
तीसरो बधावो ड्योढ़ी पे आवियो
हस्ती झूले छे दरबार घड़ा मारूजी
बांदिया लखेना तेजन जौ चरे
चौथो बधावो रसोई में आवियो
जीमे म्हारा आलीसा रो सांत
घीव कचोले, दूद वाटके
पांचवों बधावो ओवरी में आवियो
सायधन जायो छे पूत घड़ा मारूजी
नौबत बाजी, सक्कर बांटजो