भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पाणी मऽ की पगडण्डी हो माता ब्याळु मऽ की वाट जी / निमाड़ी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:15, 21 जनवरी 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=निमाड़ी }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पाणी मऽ की पगडण्डी हो, माता ब्याळु मऽ की वाट जी।
रनुबाई पीयर संचरिया जी, माता सई नऽ ली संगात जी।
एक सव तो माता वांजुली, ओ, दुई सव बाळा की माय जी,
वाळा की माय थारी सेवा कर हो, वाझ नऽ संझो द्वार जी।
हेडूँ कटारी लहलहे हो, म्हारो ए जीव तजूँ थारा द्वार जी,
उभी रहो, उभी रहो, वांजुली हो,
माता मखऽ ढूँडण दऽ भंडार जी।
सगळो भंडार हऊं ढूँडी आई,
थारा करमऽ नी तानो बाल जी।