भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पिता का पत्र / नील कमल

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:13, 6 जून 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नील कमल |संग्रह=हाथ सुंदर लगते हैं / नील कमल }} {{KKCatKa…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोचता हूँ क्या लिखूँ उत्तर में
पिता का आया है पत्र जब से

पत्र में बोलता है चेहरा
चेहरे से लापता हैं कोमल रेखाएँ
रेखाएँ निर्मम दिल्ली की सड़कों-सी
पेशेवर भाषा में करती हैं संवाद

कुशल-क्षेम की भाषा पत्र में
सिरे से दिखती है ग़ायब

ग़ायब है पत्र से हाल-चाल लेती
वह नर्म-मुलायम बातचीत

सिर्फ़ हिदायतें होती हैं अक्षरों में
जो पत्र के साथ रचती हैं परिधि
परिधि के बाहर खड़ा किया जाता हूँ
मैं, केन्द्र में बोलता है चेहरा

चेहरा सूचना की भाषा में
रखता है एक परियोजना
कि गुड़िया की शादी की ख़ातिर
बंद हों तो हों अन्य सारी परियोजनाएँ

कैसे मुमकिन है यह, पूछता हूँ ख़ुद से
पिता का आया है पत्र जब से ।