भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुकारती है जो तुझ को तिरी सदा ही न हो / शाहिद कबीर

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 06:38, 9 अक्टूबर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शाहिद कबीर }} {{KKCatGhazal}} <poem> पुकारती है ज...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पुकारती है जो तुझ को तिरी सदा ही न हो
न यूँ लपक कि पलटने को हौसला ही न हो

तमाम हर्फ़ ज़रूरी नहीं हों बे-मअ’नी
ये आसमान इधर झुक के टूटता ही न हो

मिले थे यूँ कि जुदा होके ऐसे मिलते हैं
हमारे बीच कभी जैसे कुछ हुआ ही न हो

हर एक शख़्स भटकता है तेरे शहर में यूँ
किसी की जेब में जैसे तिरा पता ही न हो

जो होता जाता है मायूस दिन-ब-दिन तुझ से
ज़रा क़रीब से देख इस को आईना ही न हो

जहाँ को छान के बैठा है इस तरह ‘शाहिद’
तमाम उम्र मैं जैसे कभी चला ही न हो