भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रकृतिक लीला / एस. मनोज

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:42, 22 अप्रैल 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=एस. मनोज |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatMaithiliRac...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रकृतिक लीला अपरंपार
पढ़ि-लिखिकें बूझब यार

कखनहुँ बरखा खूब कराबय
कखनहुँ वनमे आगि लगाबय
बाढ़िक विपदा एहन बनै जे
कय दैत अछि सभकेँ लाचार

चमचम चमकै चान गगनमे
सूरज एकसर रहै मगनमे
भुवन भास्कर पर अवलंबित
जीवनकें जे रूप हजार

इन्द्रधनुष अछि कतयसँ आबैत
नभमे जाकें फेर नुकाबैत
बादल पर जे किरण पड़ै त'
पनिसोक्खा बनिकें तैयार

हिमकण कियै गलि रहल अछि
सागरमे की पलि रहल अछि
सूक्ष्म रूप सँ वृहत रूप धरि
जीक जगत कें विविध प्रकार