भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रतिमा रोई / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:08, 5 मई 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


54
मर जाऊँगा,
तुम्हारे लिए जग में
फिर आऊँगा !
55
पूजा न जानूँ
न देखा ईश्वर को
तुमको देखा !
56
प्रतिमा रोई
कलुष न धो पाई,
भक्तों ने बाँटे ।
57
व्यथा के घन
फट जाएँ जो कभी
पर्वत डूबें ।
58
नाग-नागिन
लिपटे तन-मन
जकड़ा कण्ठ ।
59
पाषाण थे वे
न पिंघले ,न जुड़े
टूटे न छूटे ।
60
अश्रु ने कही
सिर्फ तुमने बाँची
व्यथा की कथा।
61
घने अँधेरे
प्रकम्पित लौ तुम
किए उजेरे।
62
निराश मन
चूम तेरे अधर
पाता जीवन
63
नेह का नीर
हर लेना प्रिय की
तू सारी पीर।
-0-