भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"प्रयोगशाला" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(प्रमुख योगदानकर्ता)
पंक्ति 29: पंक्ति 29:
 
<td bgcolor="#f0f0f0">200</td>
 
<td bgcolor="#f0f0f0">200</td>
 
<td bgcolor="#f0f0f0">390</td>
 
<td bgcolor="#f0f0f0">390</td>
<td bgcolor="#e5e5e5">'''.'''</td>
+
<td bgcolor="#e5e5e5">'''980'''</td>
 
</tr>
 
</tr>
  
पंक्ति 35: पंक्ति 35:
 
<td bgcolor="#f0f0f0">3,000</td>
 
<td bgcolor="#f0f0f0">3,000</td>
 
<td bgcolor="#f0f0f0">>10,000</td>
 
<td bgcolor="#f0f0f0">>10,000</td>
<td bgcolor="#e5e5e5">'''.'''</td>
+
<td bgcolor="#e5e5e5">'''~20,000'''</td>
 
</tr>
 
</tr>
  
पंक्ति 41: पंक्ति 41:
 
<td bgcolor="#f0f0f0">5,000</td>
 
<td bgcolor="#f0f0f0">5,000</td>
 
<td bgcolor="#f0f0f0">>17,000</td>
 
<td bgcolor="#f0f0f0">>17,000</td>
<td bgcolor="#e5e5e5">'''.'''</td>
+
<td bgcolor="#e5e5e5">'''>50,000'''</td>
 
</tr>
 
</tr>
  
पंक्ति 47: पंक्ति 47:
 
<td bgcolor="#f0f0f0">70,000</td>
 
<td bgcolor="#f0f0f0">70,000</td>
 
<td bgcolor="#f0f0f0">>200,000</td>
 
<td bgcolor="#f0f0f0">>200,000</td>
<td bgcolor="#e5e5e5">'''.''' (जून 2009)</td>
+
<td bgcolor="#e5e5e5">'''>700,000''' (जून 2009)</td>
 
</tr>
 
</tr>
 
</table>
 
</table>

11:42, 24 जून 2009 का अवतरण

प्रयोगो के लिये स्थान! आप इस पन्ने पर कोई भी प्रयोग कर सकते हैं। गलतियाँ होने का कोई डर नहीं। बस कोशिश कीजिये कि आप किसी दूसरे सदस्य के द्वारा लिखी गयी सामग्री को ना मिटायें।


रचनाएँ
कनक-रतनमय पालनो रच्यो मनहुँ मार-सुतहार / तुलसीदास
पालने रघुपति झुलावै / तुलसीदास
सुभग सेज सोभित कौसिल्या रुचिर राम-सिसु गोद लिये / तुलसीदास
अपनी शुभकामनाएँ अथवा अन्य संदेश
लिखने के लिये
यहाँ क्लिक कीजिये
Third birthday.jpg
कविता कोश के बारे में
पाठकों और रचनाकारों
के विचार पढ़िये

कविता कोश की तृतीय वर्षगांठ

जुलाई 05, 2009

कविता कोश आज तीन वर्ष का हो गया है। हिन्दी काव्य का यह ऑनलाइन कोश इस बात का एक बेहतरीन उदाहरण है सामूहिक प्रयासों द्वारा किसी भी कठिन और विशाल लक्ष्य को पाया जा सकता है। कविता कोश साहित्य के भविष्य का भी दर्पण है। इस कोश में संकलन के द्वारा ना केवल दुर्लभ और लुप्त होती कृतियों को बचाया जा रहा है बल्कि ये कृतियाँ सर्व-सुलभ भी हो रही हैं। रचनाकार कविता कोश में अपनी रचनाओं के संकलन के बाद संतुष्टि का अनुभव करते है कि उनकी रचनाएँ समस्त विश्व में पढी़ जा सकती हैं और सुरक्षित व सुसंकलित हैं। इस तीसरे वर्ष में भी कोश तीव्र गति से आगे बढा़। इसी प्रगति की संक्षिप्त जानकारी नीचे दी जा रही है।


आंकडो़ की नज़र से

पहले वर्ष मेंदूसरे वर्ष मेंतीसरे वर्ष के अंत तक
संकलित रचनाकारों की संख्या 200 390 980
कोश में उपलब्ध कुल पन्ने 3,000 >10,000 ~20,000
कोश के जालस्थल पर हर महीने आने वाले आगंतुकों की संख्या 5,000 >17,000 >50,000
हर महीने देखे जाने वाले पन्नो की संख्या 70,000 >200,000 >700,000 (जून 2009)


वैबसाइट के सर्वर में बदलाव

नवम्बर २००८ में कविता कोश टीम ने यह निर्णय लिया कि अब कविता कोश को सर्वर की सेवा मुफ़्त प्रदान करने वाली संस्था Wikia के सर्वर से हटा लिया जाना चाहिये। यह एक बड़ा और महत्वपूर्ण निर्णय था। इस स्थानांतरण के पीछे प्रमुख कारण था कि Wikia कविता कोश के जालस्थल पर विज्ञापन दिखाती थी और इस तरह अपनी सेवा मुफ़्त उपलब्ध कराती थी। इसके अलावा भी Wikia की नीतियों कारण कोश के विकास पर कई बंदिशे लगी थी। नवम्बर माह में ही टीम ने कोश को निजी सर्वर पर स्थानांतरित कर लिया और विज्ञापनों का दिखाया जाना बंद कर दिया गया। अब कविता कोश टीम ही सर्वर का सारा खर्च वहन करती है।


प्रमुख योगदानकर्ता

कविता कोश के विकास में हाथ बंटाने के उद्देश्य से कोश से जुड़ने वाले योगदानकर्ताओं की संख्या इस वर्ष भी निरंतर बढ़ती रही। साथ ही पुराने योगदानकर्ताओं ने अपना योगदान बनाये रखा। कविता कोश टीम की प्रशासक प्रतिष्ठा शर्मा, संपादक अनिल जनविजय जी और सदस्य द्विजेन्द्र 'द्विज' जी ने सर्वाधिक योगदान किया। टीम के सदस्य अनूप भार्गव जी ने कोश के प्रचार-प्रसार में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की। प्रकाश बादल जी ने बहुत कम समय में ८०० से अधिक रचनाओं का कोश में संकलन किया। अन्य प्रमुख योगदानकर्ताओं में हेमंत जोशी, श्रद्धा जैन, चंद्र मौलेश्वर, हिमांशु, राजुल मेहरोत्रा, विनय प्रजापति, एकलव्य, भारतभूषण तिवारी और ऋषभ देव शर्मा के नाम शामिल हैं।


नित नये योगदानकर्ताओं के कोश से जुड़ने का सिलसिला बदस्तूर ज़ारी है। इन सभी योगदानकर्ताओं के श्रम के कारण ही आज कविता कोश अपने वर्तमान स्वरूप को पा सका है। आप भी कोश के विकास दे सकते हैं -इसके लिये नये आगंतुकों का स्वागत देंखें।


प्रस्तुति
कविता कोश टीम