भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रवास से / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:08, 17 मई 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=समीर बरन नन्दी |संग्रह= }} {{KKCatKavita‎}} <poem> सिरहाने जल, द…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सिरहाने जल, दवाई बगल
छाती पर उल्टी धरी जीवनानन्द दास की 'रूपसी-बांग्ला' ।
दीवार पर मकड़ियो के जाले में अटकी शाम ।
झरे पत्तों के ढेर पर
डूबते सूर्य का सुनहला पथ ।

रात, भोर, भरी दुपहरिया
एक डाली करती है हवा
बार-बार आगे बढ़ कर --
सिरहाने फेरती है हाथ --
चिंता न करो ...चिंता न करो ।
मैं तो हूँ....

प्रलाप करता हूँ उससे
दीदी ! घर जाऊँगा मैं ।