भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्राणियों में प्राण हूँ / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हवा हूँ हवा मैं
बेफिक्र हवा हूँ
स्वयं निष्प्राण हूँ
पर जिसको भी छू दूँ मैं
प्राणवान हो जाये
बेजान पत्थरों में जान
फूंक देती हूँ
श्वासों का तानाबाना
अनजाने बुनती हूँ
प्राणियों में प्राण मैं
संगीत में तान हूँ
अपने पराये से अनजान हूँ
स्वयं निष्प्राण हूँ
पर जीवन की जान दूँ
उसकी पहचान हूँ
चाहो तो पुकार लो
दौड़ी चली आऊंगी
सहला पुचकार कर
धीरे से प्यार कर
वापिस चली जाऊंगी।