भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"प्रार्थनारत / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

07:19, 1 नवम्बर 2019 के समय का अवतरण

146
प्रार्थनारत
अधीर हैं नयन
कि हों दर्शन ।
147
साँझ निहारे
कब आएगा चाँद
उसके द्वारे।
148
नग्न डालियाँ
पात ने छोड़ा साथ
खाली हैं हाथ ।
149
भ्रम न तोड़ो
साँसों की यह डोर
यों ही न छोड़ो ।
150
मेहँदी रची
चाँद डूबा आँगन
आँसू उमड़े !
151
मैं डूब जाऊँ
मंजूर सदा मुझे
कोई न रोए।
152
क्या ले जाना
खाली हाथ ही जाना
दम्भ छोड़ दो ।
153
नाम की भूख
बना देती पागल
अब सँभल ।
154
सुनो परिधि !
व्यास जाए भी कहाँ
तुम्हें छोड़के।
155
मिलें तो चुभे
त्रिभुज के कोण -सी
बातें तुम्हारी।
156
भरा है कंठ
सपने भी टूटे है
कहाँ छुपे तुम।
157
पृथिवी माता
तुझसे है जीवन
तुझे नमन ।
158
शक्तिस्वरूपा!
तुमसे पाता बल
मन दुर्बल।
-0-