भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रिय! अब जाने की करो नहीं हठ / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:11, 28 जून 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


प्रिय ! हम स्वप्न-पाश में आलिंगनरत
अधर धरे अधरों पर, प्रेम-प्रतिध्वनित
 बस कुछ ही शेष है जीवन घट-घट
टपकती बूँदें, सिसकती साँसें सिमट
असीम संघर्ष मेरी घुँघराली लट-लट
कुछ समय हो, दो प्रिय इन्हें सुलट
कम्पित कलियाँ, नीरवता का जमघट
इन्हें खिला दो प्रिय पुनः दृष्टि पलट
पलकें खुलना ही ना चाहे मदिरा-घट
अब मुँद जाएँ, तुमसे ये नयना लिपट
 दोनों नयना उलझाए गंगा के तट
 प्रिय ! अब जाने की करो नहीं हठ! 