भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रीत-18 / विनोद स्वामी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:01, 18 अक्टूबर 2013 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हनै याद है
जदी तो म्हैं आज ई
आं सूं भोत हेत करूं !
तूं जांवती बरियां
कीं कोनी बोली,
बस राह सा’रलै आकड़ै रो
पाको अकडोडियो तोड़
फूंक मार दी
अर आंख्यां में चैसारा चाल्या।