भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

प्रेम बान जोगी मारल हो / पलटूदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:17, 21 अगस्त 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=पलटूदास }} {{KKCatPad}} {{KKCatBhojpuriRachna}} <poem> प्रेम ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम बान जोगी मारल हो कसकै हिया मोर।।
जोगिया कै लालि-लालि अँखियाँ हो, जस कॅवल कै फूल
हमरी सुरुख चुनरिया हो, दूनौं भये तूल।।
जोगिया कै लेउ मिर्गछलवा हो, आपन पट चीर
दुनौं कै सियब गुदरिया हो, होइ जाबै फकीर।।
गगना में सिंगिया बजाइन्हि हो, ताकिन्हि मोरी ओर
चितवन में मन हरि लिन्हि हो, जोगिया बड़ चोर।।
गंग जमुन के बिचवाँ हो, बहै झिरहिर नीर
तेहिं ठैयां जोरल सनेहिया हो, हरि लै गयौ पीर।।
जोगिया अमर मरै नहिं हो, पुजवल मोरी आस
करम लिखा बर पावल हो, गावै पलटू दास।।