भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फलक पर चांद / कुमार मुकुल

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:29, 1 अप्रैल 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आकाशगंगाओं पर

चांदनी का कोई दबाव नहीं है

और तारे मार कुलबुला रहे हैं

किसी ने आसमान से

ज़रा सा सिर निकाला हो जैसे

फलक पर झाँकता है चांद

उसके तांबई सिर के नीचे

झाँकती आँख-सा

चमकता एक तारा

पास ही है।