भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बंजर होगे ना / ध्रुव कुमार वर्मा

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:01, 15 जून 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ध्रुव कुमार वर्मा |अनुवादक= |संग्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जेकर महानदी महतारी
राजिव लोचन बाप
छत्तीसगढ़ के ए धरती ल
कइसे लगगे श्राप।
बंजर होगे ना
सोना असन चमकत धरती
बंजर होगे ना।


बरसिस नहीं बादर बैरी
दुच्छा मुख ल टारिस
लालच मं भटकाके एसो
घुमा-घुमा के मारिस
सावन भादो अइसे तपिस
जइसे भूंजय होरा
मोर धान के कटोरा
बंजर होगे ना
चंदन असन महकत धरती
बंजर होगे ना॥1॥

खेती बारी नींदेन कोड़ेन
जांगर ल खपाएन
दूध के संग मं दुहला घलो
एसो के साल गवांएन
घर के बिजहा खेत म डारेन
पेट ल पारेन फोरा
मोर महानदी के कोरा
बंजर होगे ना
फूलत फरत हरियर धरती
बंजर होगे नां।2॥

ओढ़ना, कपड़ा, नून तेल ला
कामा करके लेबो।
खातू-माटी के करजा ल
कहां ल लाके देबो।
घुरवा असन बाढ़े बेटी के
कइसे करबो तोरा
मोर धान के कटोरा
बंजर होगे ना
सोना असन चमकत धरती
बंजर होगे ना॥3॥