भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"बकवास तंत्र / मनोज श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= मनोज श्रीवास्तव |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem> ''' बकवास त…)
 
 
पंक्ति 8: पंक्ति 8:
  
 
'''    बकवास तंत्र    '''
 
'''    बकवास तंत्र    '''
 +
 +
ज़ाहिर है
 +
इस बकवास तंत्र में
 +
घुट-घुट कर जिंदा रहना
 +
नरभक्षियों के मुंह पर
 +
एक जोरदार तमाचा है
 +
 +
यह जो व्यवस्था है
 +
उसमें आस्था रखना
 +
अज़गर के मुंह में
 +
हंसते-हंसते जानबूझकर
 +
खुद प्रवेश कर जाना है
 +
 +
यह तंत्र भी क्या है
 +
स्वार्थ की कैंची से कटते
 +
निर्दोष-निरीह कपड़े जैसा है
 +
जो अपने मुताबिक़ उसे
 +
खद्दर के कुरते-पाजामें में
 +
ढाल देती है
 +
जिन्हें हमारे शहंशाह
 +
पहनते हैं रोब से
 +
और गलीचेदार राजसभाओं में
 +
मंडराते हैं.

16:11, 17 सितम्बर 2010 के समय का अवतरण


बकवास तंत्र

ज़ाहिर है
इस बकवास तंत्र में
घुट-घुट कर जिंदा रहना
नरभक्षियों के मुंह पर
एक जोरदार तमाचा है

यह जो व्यवस्था है
उसमें आस्था रखना
अज़गर के मुंह में
हंसते-हंसते जानबूझकर
खुद प्रवेश कर जाना है

यह तंत्र भी क्या है
स्वार्थ की कैंची से कटते
निर्दोष-निरीह कपड़े जैसा है
जो अपने मुताबिक़ उसे
खद्दर के कुरते-पाजामें में
ढाल देती है
जिन्हें हमारे शहंशाह
पहनते हैं रोब से
और गलीचेदार राजसभाओं में
मंडराते हैं.