भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बचपन / इराक्ली ककाबाद्ज़े / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:20, 18 नवम्बर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=इराक्ली ककाबाद्ज़े |अनुवादक=राज...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आह, कितनी दूर
आ गया मैं,
उस बचपन से

जब भाग निकलता था
आँख बचा कर
स्कूल से जंगल की तरफ़
और थक कर चूर हो जाता था

भाग-भाग कर
माँ की डाँट से बचते हुए...

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र

लीजिए, अब इसी कविता का जार्जियाई भाषा से अँग्रेज़ी अनुवाद पढ़िए
              Irakli Kakabadze

Oh, how I long,
as when I was a child,
To sneak away
from school to the forest
And exhausted from running,
For my mother to scold me . . .

Translated from Georgian by Mary Childs