भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बड़े हम जैसे होते हैं / कुलवंत सिंह

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:43, 3 जुलाई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कुलवंत सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बड़े हम जैसे होते हैं तो रिश्ता हर जकड़ता है ।
यहां बनकर भी अपना क्यूँ भला कोई बिछड़ता है।।

सिमट कर आ गये हैं सब सितारे मेरी झोली में,
कहा मुश्किल हुआ संग चांद अब वह तो अकड़ता है।

छुपा कान्हा यहीं मै देखती यमुना किनारे पर,
कहीं चुपके से आकर, हाथ मेरा अब पकड़ता है।

घटा छायी है सावन की पिया तुम अब तो आ जाओ,
हुआ मुश्किल है रहना, अब बदन सारा जकड़ता है।

जिसे सौंपा था मैने हुश्न अपना मान कर सब कुछ,
वही दिन रात देखो हाय अब मुझसे झगड़ता है।

बने हैं पत्थरों के शहर जब से काट कर जंगल,
हकीकत देख लो इंसान से इंसान डरता है।