भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बढिया लागगो / हरिचरण अहरवाल ‘निर्दोष’

Kavita Kosh से
Neeraj Daiya (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:56, 17 मई 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हरिचरण अहरवाल ‘निर्दोष’ |संग्रह=...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दो टूक जवाब
ज्ये मल जातो
राजी अर बेराजी
हां अर ना को
तो क्हांमी होती काळी
हजारूं रातां
अर न्हं न्हाळणी पड़ती बाट
ऊग्यां सूं आश्यां तांई थांकी
पाछी मुड़’र झांकबा की
पाछा आबा की।
पण बना बोल्यां
सुन्न सूं ही ख’ड़ जाबो तो
खटकै छै आठूं पहर।
आथण-सवार हो जावै छै
मन उदास
ऊं अणबोल्या अर अणदेख्या
अर बना कौल कर्यां गया
बटाऊ क लेख
पंखेरू बी आ बैठै छै
ऊ डाळ पे
भूल्या-भटक्या
कदी-कदी
पण गजब ही कर दी
कोई दन आ’र पाड़ो हेलो
बुलावो हाथ को झालो दे’र
म्हंई घणो बढिया लागगो,
हो सकै थांई बी।