भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बन्दर जी ने सोची ब्याह की / दीनदयाल शर्मा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:05, 19 मार्च 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दीनदयाल शर्मा }} {{KKCatBaalKavita}} <poem> बन्दर ज...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बन्दर जी ने देखी बन्दरिया
सोचा ब्याह रचाऊँ
बोला, गाजा-बाजा लेकर
बरात अपनी लाऊँ ।

बोली बन्दरिया स्वागत सबका
धूमधाम से आओ
बिना दहेज गर करोगे शादी
दुल्हन मुझको पाओ ।।