भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बरफ-सिलान की बिछायत बनाय करि/ ग्वाल

Kavita Kosh से
Himanshu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 06:46, 28 मार्च 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ग्वाल }}{{KKAnthologyGarmi}} Category:पद <poem>बरफ-सिलान की बिछायत बन…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बरफ-सिलान की बिछायत बनाय करि,
सेज संदली पै कंज-दल पाटियतु है ।
गालिब गुलाब जल-जाल के फुहारे छूटें,
खूब खसखने पर गुलाब छाँटियतु है ॥
ग्वाल कवि सुंदर सुराही फेरि, सोरा में-
औरा कौ बनाय रस,प्यास डारियतु है ।
हिमकर-आननी हिवाला सी हिए तें लाय,
ग्रीषम की ज्वाला के कसाला काटियतु है ॥