भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"बस, इसी एक ज़ुर्म पर / निदा फ़ाज़ली" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=निदा फ़ाज़ली |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

19:37, 14 अगस्त 2019 के समय का अवतरण

हमको कब जुड़ने दिया
जब भी जुड़े बाँटा गया
रास्ते से मिलने वाला
हर रास्ता काटा गया

कौन बतलाए
सभी अल्लाह के धन्धों में हैं
किस तरफ़ दालें हुईं रुख़सत
किधर आटा गया
लड़ रहे हैं उसके घर की
चहारदीवारी पर सब

बोलिए, रैदास जी !
जूता कहाँ गाँठा गया
मछलियाँ नादान हैं
मुमकिन हैं खा जाएँ फ़रेब
फिर मछेरे का
भरे तालाब में काँटा गया
वह लुटेरा था मगर
उसका मुसलमाँ नाम था
बस, इसी एक जुर्म पर
सदियों उसे डाँटा गया