भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"बिछड़ना / शैलजा पाठक" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शैलजा पाठक |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKav...' के साथ नया पन्ना बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

12:40, 30 अप्रैल 2014 के समय का अवतरण

बिछड़ने से
सिर्फ तुम दूर नही हो जाते

कुछ रास्ते अपने आप को
भूल जाते हैं
तालाब का गुलाबी कमल
मुझसे आँखें फेर लेता है

हवा में बह रही
तुम्हारी आवाज
टकरा टकरा जाती है
मुझसे

कम्बखत बेखुदी तो देखो
ये जानते हुए भी की नही हो तुम
बढाती हूँ अपना हाथ तुम्हारी तरफ
आज कहाँ चोट लगा लिया?
ये भी सुनती हूँ

मंदिर के मोड़ पर
तुम मुझे फूल लिए दिखते हो
सावन में एक हरा दुपट्टा तुमने
मुझे ओढाया था

मेरे रास्ते अब मंदिर नही पड़ता
वो रास्ता भी छीन गया है अब
समन्दर की कोई लहर नही छू पाती मुझे
पूरा चाँद भी अधूरा दिखता है मुझे
होली का अबीर फीका कर गए हो

तुम्हारे बिछड़ने से मैं दूर रहीं हूँ
इन खुबसूरत लम्हों से
मैं बिछड़ गई अपने आप से

मेरे अंगूठे को जोर से दबाने की टिस
देखो हुई अभी अभी

बिछड़ना बस एक भ्रम होता है क्या?