भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"बिछुआ उसके पैर का / कविता भट्ट" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKRachna |रचनाकार=कविता भट्ट |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem>...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 7: पंक्ति 7:
 
<poem>
 
<poem>
  
 +
प्रेम भरे दिनों की स्मृतियों में खोया हुआ,
 +
जब प्रिय था उसके संग टहलता हुआ
 +
 +
कन्च-बर्फ के फर्श पर सर्द सुबहें लिये,
 +
काँपता ही रहा मैं सिर के बल चलता हुआ
 +
 +
जेठ की धूप में गर्म श्वांसें भरते हुए,
 +
एक-एक बूँद को रहा तरसता जलता हुआ
 +
 +
हूँ गवाह- उसके पैरों की बिवाइयों का,
 +
ढलती उम्र की उँगलियों से फिसलता हुआ
 +
 +
सिमटा हुआ सा गिरा हूँ- आहें लिये,
 +
सीढ़ीनुमा खेत- किसी मेड पर सँभलता हुआ
 +
 +
ढली उम्र, लेकिन मैं बिछुआ-उसके पैर का
 +
अब भी हूँ, पहाड़ी नदी सा मचलता हुआ
 +
 +
रागिनी छेड़कर रंग-सा बिखेरकर,
 +
कुछ गुनगुनाता हूँ अब भी पहाड़ सा पिघलता हुआ
 +
 +
वृक्षों के रुदन-सा भरी बरसात में,
 +
आपदा के मौन का वीभत्स स्वर निगलता हुआ
 +
मैं हराता गया- ओलों-बर्फ को, तपन-सिहरन को,
 +
अंधियारे के गर्त से बाहर निकलता हुआ
 +
 +
चोटी पे बज रही धुन मेरे संघर्ष की,
 +
गाथाओं के गर्भ में मेरा संकल्प पलता हुआ 
 +
 +
-0-
  
 
</poem>
 
</poem>

02:21, 29 जून 2019 के समय का अवतरण


प्रेम भरे दिनों की स्मृतियों में खोया हुआ,
जब प्रिय था उसके संग टहलता हुआ

कन्च-बर्फ के फर्श पर सर्द सुबहें लिये,
काँपता ही रहा मैं सिर के बल चलता हुआ

जेठ की धूप में गर्म श्वांसें भरते हुए,
एक-एक बूँद को रहा तरसता जलता हुआ

हूँ गवाह- उसके पैरों की बिवाइयों का,
ढलती उम्र की उँगलियों से फिसलता हुआ

सिमटा हुआ सा गिरा हूँ- आहें लिये,
सीढ़ीनुमा खेत- किसी मेड पर सँभलता हुआ

ढली उम्र, लेकिन मैं बिछुआ-उसके पैर का
अब भी हूँ, पहाड़ी नदी सा मचलता हुआ

रागिनी छेड़कर रंग-सा बिखेरकर,
कुछ गुनगुनाता हूँ अब भी पहाड़ सा पिघलता हुआ

वृक्षों के रुदन-सा भरी बरसात में,
आपदा के मौन का वीभत्स स्वर निगलता हुआ
मैं हराता गया- ओलों-बर्फ को, तपन-सिहरन को,
अंधियारे के गर्त से बाहर निकलता हुआ

चोटी पे बज रही धुन मेरे संघर्ष की,
गाथाओं के गर्भ में मेरा संकल्प पलता हुआ 

-0-