भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

बिन तुम्हारे मैं भला कब तक जियूँगा / सुनीत बाजपेयी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:26, 21 जुलाई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुनीत बाजपेयी |अनुवादक= |संग्रह= }} {...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साँस का ये साज न रुक जाये, आओ,

रो रहा है हृदय पर आँसू निकलते ही नहीं है।
नयन में उम्मीद के अब ख्वाब पलते ही नहीं हैं।
हो गया है बावरा मन कौन समझाये इसे ये,
लाख चीखो किन्तु पत्थर दिल पिघलते ही नहीं हैं।
मौन रहने का तुम्हें कैसे वचन दूँ,
खुद बताओ किस तरह ये लब सियूँगा।

सेंध किसने भावनाओं के घरौंदे में लगायी।
प्रीति के विश्वाश की ये नींव कैसे चरमरायी।
हाँ चले जाना ख़ुशी से छोड़कर लेकिन बताओ,
क्या करोगे कल तुम्हें मेरी कभी यदि याद आयी।
सोंचना था किन्तु ये तुमने न सोंचा।
मैं नहीं शंकर, जहर कैसे पियूँगा।