भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बीज / कुमार अजय

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:39, 27 मार्च 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कुमार अजय |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हैं आछी भांत जाणूं
अर मानूं राजाजी
कै थारी हामळ भरणिया
आज लाखूं हैं
पण वांरी हामळ रौ
कित्तोक अरथ है आज
वा नीं जांणै थूं,
वांरी हामळ मांय
भेळौ है फगत थारौ सोच
हां, अेकल थारौ ई
अर वींरै लारै है अेक लरड़ीचल्लौ
जिकी मांय दिखै
किणी अफीम रौ असर ई,
पण सुण! अैड़ै बगत मांय ई
जिकौ ऊभौ है आज
इण हवा रै साम्हीं
अर बोलै थारै खिलाफ
वींरै लबजां मांय
भेळौ है करोड़ां रौ मूंन
हां मूंन, जिकै रौ अरथ
हरमेस हामळ नीं हुवै
बगतावू बेबसी अर
रीस री सैनांणी मूंन
आवणै वाळै दरोळ रौ
बीज ई तौ हुय सकै।