भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बुखार की दवा / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:59, 30 जून 2014 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुत्ता बोला, बिल्ली दीदी, मुझको चढ़ा बुखार|
यदि हो सके संभव तो, कोई दवा करो तैयार||

बिल्ली बोली, भौंक भौंक कर, तुम होते बीमारा|
बंद रखोगे मुँह तो होगी, बीमारी की हार||

यदि छोड़ दो पीछा करना, तुम निरीह लोगोंका|
कुत्ता भाई निश्चित तुम पर, कभी न ताप चढ़ेगा||