भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बुझ गई आग तो कमरे में धुआँ ही रखना / अब्दुल अहद 'साज़'

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:20, 24 मार्च 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अब्दुल अहद 'साज़' |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बुझ गई आग तो कमरे में धुआँ ही रखना
दिल में इक गोशा-ए-एहसास-ए-ज़ियाँ ही रखना

फिर इसी रह से मिलेगी नए इबलाग़ को सम्त
शेर को दर्द का उस्लूब-ए-बयाँ ही रखना

आह मंज़र को ये बर्फ़ाती हुई बे-सफ़री
साथ पिघले हुए रस्तों के निशाँ ही रखना

कह न सकना भी बहुत कुछ है रियाज़त हो अगर
ज़ख़्म होंटों के सर-ए-इज्ज़-ए-बयाँ ही रखना

जैसे वो सानेहा लम्हा भी ज़माना भी है 'साज़'
याद उस शख़्स के जाने का समाँ ही रखना