भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बुद्ध की मौत / विवश पोखरेल / सुमन पोखरेल

Kavita Kosh से
Sirjanbindu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:08, 2 जुलाई 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= विवश पोखरेल |अनुवादक=सुमन पोखरेल...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दूर हूँ, बहुत दूर
ख्वाहिस कर के भी नहीं छू सकता
मैं इम्कानात के उफ्क को ।
पार कर नहीं सकता
जिन्दगी के मुस्किल पुलों को ।

दब गया हूँ
गुम्बद-ए-मातम के निचे।
अँधियारा गया है लुम्बिनी ।
आँखो में
सिर्फ ख्वाबेँ तैर रहे हैँ अमन के ।

जिस लम्हा तुम ने
इमान को दफना दी
बेइमानी के कब्रस्तान पर,
उसी लम्हा हो गयी है मौत
मेरे बुद्ध की ।