भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बुलाते क्यूँ हो ‘आजिज़ को बुलाना क्या मज़ा दे है / कलीम आजिज़

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता २ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:13, 10 जून 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कलीम आजिज़ |संग्रह= }} {{KKCatGhazal‎}}‎ <poem> ब...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बुलाते क्यूँ हो ‘आजिज़ को बुलाना क्या मज़ा दे है
ग़ज़ल कम-बख़्त कुछ ऐसी पढ़े है दिल हिला दे है

मोहब्बत क्या बला है चैन लेना ही भुला दे है
ज़रा भी आँख झपके है तो बे-ताबी जगा दे है

तेरे हाथों की सुर्खी ख़ुद सुबूत इस बात का दे है
के जो कह दे है दिवाना वो कर के भी दिखा दे है

गज़ब की फित्ना-साज़ी आए है उस आफत-ए-जाँ को
शरारत खुद करे है और हमें तोहमत लगा दे है

मेरी बर्बादियों का डाल कर इल्ज़ाम दुनिया पर
वो ज़ालिम अपने मुँह पर हाथ रख कर मुस्कुरा दे है

अब इंसानों की बस्ती का ये आलम है के मत पूछो
लगे है आग इक घर में तो हम-साया हवा दे है

कलेजा थाम कर सुनते हैं लेकिन सुन ही लेते हैं
मेरे यारों को मेरे गम की तल्ख़ी भी मजा दे है