भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बे-तहाशा उसे सोचा जाए / सरवत ज़ोहरा

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता २ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:14, 20 जुलाई 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सरवत ज़ोहरा }} {{KKCatGhazal}} <poem> बे-तहाशा उस...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बे-तहाशा उसे सोचा जाए
ज़ख़्म को और कुरेदा जाए

जाने वाले को चले जाना है
फिर भी रस्मन ही पुकारा जाए

हम ने माना कि कभी पी ही नहीं
फिर भी ख़्वाहिश कि सँभाला जाए

आज तन्हा नहीं जागा जाता
रात को साथ जगाया जाए

हर्फ़ लिखना ही नहीं काफ़ी है
आओ अब हर्फ़ मिटाया जाए