भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बे-सबब हो के बे-क़रार आया / हम्माद नियाज़ी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:32, 12 नवम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हम्माद नियाज़ी }} {{KKCatGhazal}} <poem> बे-सबब ह...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बे-सबब हो के बे-क़रार आया
मेरे पीछे मिरा ग़ुबार आया

चंद यादों का शोर था मुझ में
मैं उसे क़ब्र में उतार आया

उस को देखा और उस के बाद मुझे
अपनी हैरत पे ए‘तिबार आया

भूल बैठा है रंग-ए-गुल मिरा दिल
परतव-ए-गुल पे इतना प्यार आया

एक दुनिया को चाहता था वो
एक दुनिया में उस पे वार आया

साँस लेती थी कोई हैरानी
मैं जिसे लफ़्ज़ में उतार आया

कुछ न आया हमारे कासे में
और आया तो इंतिज़ार आया

कब मुझे उस ने इख़्तियार दिया
कब मुझे ख़ुद पे इख़्तियार आया