भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बैत / ऊलाव हाउगे

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:29, 1 मई 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKAnooditRachna |रचनाकार=ऊलाव हाउगे |संग्रह= }} Category:नॉर्वेजियाई भाषा <Po…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ऊलाव हाउगे  » बैत

बैत
पीला खड़ा है
जैसे वह खड़ा था पिछले वर्ष भी

लेकिन
अब लोग उसे
कम देखते हैं

न ही अब
सुनाई देती है
बाँसुरी।


अंग्रेज़ी से अनुवाद : रुस्तम सिंह