भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ब-ज़ाहिर यूँ तो मैं सिमटा हुआ हूँ / ज़फ़र ताबिश

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 06:37, 22 अक्टूबर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ज़फ़र ताबिश }} {{KKCatGhazal}} <poem> ब-ज़ाहिर यू...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ब-ज़ाहिर यूँ तो मैं सिमटा हुआ हूँ
अगर सोचो तो फिर बिखरा हुआ हूँ

मुझे देखो तसव्वुर की नज़र से
तुम्हारी ज़ात में उतरा हुआ हूँ

सुना दे फिर कोई झूठी कहानी
पैं पिछली रात का जागा हुआ हूँ

कभी बहता हुआ दरिया कभी मैं
सुलगती रेत का सहरा हुआ हूँ

जब अपनी उम्र के लोगों में बैठूँ
ये लगता है कि मैं बूढ़ा हुआ हूँ

कहाँ ले जाएगी ‘ताबिश’ न जाने
हवा के दोश पर ठहरा हुआ हूँ