भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भग्न वीणासँ ने पूछह राग वा कि रागिनी / धीरेन्द्र

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:11, 23 मई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धीरेन्द्र |संग्रह=करूणा भरल ई गीत...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भग्न वीणासँ ने पूछह राग वा कि रागिनी,
लागि रहले भेद नहि किछु दिवस हो वा यामिनी।
जन्मभरि घुमिते रहल ओ मधुरतानक खोजमे,
अछि नुकायल करूण क्रन्दन ओकर स्वरकेर ओजमे।
देखि लेलक शव-परीक्षा आदर्श पुरूषक आइ जे,
अपन बूझय आइ ककरा कहह अप्पन आइके ?
साधनारत ओकर जीवन, दिव्य ज्योतिक ढेर अछि
आबि रहले जे कि कालिख ओ दिनक बस फेर अछि।
छिन्न नेहक तार भेले, किन्तु स्वर अनुगामिनी,
बाजि रहले तएँ लगै अछि टुटलसन ई रागिनी
चलऽ दए जे किछु चलै अछि नहि रोकह तों कामिनी,
भग्न वीणासँ ने पूछह राग व कि रागिनी।