भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भर डोंगर मऽ झूला बंध्या हो / निमाड़ी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:00, 21 जनवरी 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=निमाड़ी }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

भर डोंगर मऽ झूला बंध्या हो,
म्हारी रनुबाई झुलवा जाय जी।
झुलतऽ झुलतऽ तपेसरी आया,
हम खऽ ते भिक्षा देवो जी।
थाल भरी मोती राणी रनुबाई न लिया,
ये भिक्षा तुम लेवा जी।
काई करूँ हो थारा माणक मोती,
अन्न की भिक्षा देवो जी।
खेत नी वायो, खळो नी घायो, काय की भिक्षा देवाँ जी।
आवसे रे चईत को महीनो, जासां हमारा पीयर जी।
लावसा रे गहुँआ की बाळद, तव जाई भिक्षा दीसां जी।