भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भारत माय / प्रदीप प्रभात

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:59, 5 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रदीप प्रभात |अनुवादक= |संग्रह= }} {...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भारत माय प्यारी छै।
सैसेॅ दुनिया सेॅ न्यारी छै॥
रंग-बिरंगोॅ फूलोॅ के।
मनभावन फुलवारी छै॥
भारत माय के वीर बहादुर रखवाला छै।
दुश्मन के दिल दहलाबै छै॥
मलखान तिरंगा फहराबै छै।
भारत माय रोॅ मान बढ़ाबै छै॥
हिन्दी हमरोॅ राष्ट्रीय भाषा छेकै।
जन-गण-मन रोॅ आशा छेकै॥
प्रेम सब्भेॅ क्षेत्रीय भाषा सेॅ।
यहेॅ तेॅ भाषा रोॅ परिभाषा छेकै॥
हिन्दी छेकै राष्ट्रभाषा।
अंगिका हमरोॅ मातृभाषा॥
मलखान तिरंगा फहरावै छै।
भारत माय रोॅ मान बढ़ाबै छै॥