भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भालू मामा की पार्टी / संजय अलंग

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:06, 21 फ़रवरी 2012 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=संजय अलंग }} {{KKCatBaalKavita}} <poem> पार्टी के जब ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


पार्टी के जब न्योते आए
भालू मामा बड़े घबड़ाए

फटाफट एक सूट सिलाया
कंघी पट्टी करके आया

सूट पहन जो टाई लगाई
साँस दबी और आँखें पलटाई

हड़बड़ में पैंट जो छूटी
ऐसे में हिम्मत जो टूटी

सूट छोड़ पाजामा पहना
पालथी मार भोजन को लेना

भालू मामा सुख को पाए
पेट भरकर घर को आए