भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भीष्म / चैनसिंह शेखावत

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:08, 10 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=चैनसिंह शेखावत |अनुवादक= |संग्रह=...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हैं परतीतूं आज
जाणै भीष्म बण्यो बैठ्यो हूं।

डचका भरतो बगत
ईयां लागै कै कीं पूछसी
अबखायां नै अंवेरतां
किण नै कांई सूझसी

खुद रा ताना बाना
उळझ्योड़ो
ठेटूं ठेट तण्यो बैठ्यो हूं।

बाको फाड्यां महाभारत
सगळी सोध
सवालां सारू
उथळा आवै किण कानी सूं
निजरा अटकी झालां सारू

मून मनायो मैं’गो पड़ग्यो
आरूं पार छण्यो बैठ्यो हूं।