भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भूलना / शुभा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:52, 11 नवम्बर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शुभा |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem>...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बचपन में जो फ्रॉक पहने थे
उनमें से कई की छींट याद है अब तक
किसी का रंग याद है और किसी की लम्बाई
एक महरून रँग का फ्रॉक था

उसमें से आती थी
महरून रँग की ख़ुशबू
कई चीज़ें थीं जिन्हें हम अपना लेते थे
चप्पलें रिबन
हम स्पर्श से पहचान लेते थे अपनी चीज़ें
ऐसा नहीं है कि अब बहुत बूढ़े हो गए हैं

पर मुश्किल होता है किसी चीज़ को अपनाना
बस हम उन्हें बरत लेते हैं
भुला देते हैं
फेंक देते हैं

यहाँ तक कि अपना शरीर भी
याद नहीं रहता अपने शरीर की तरह।