भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मंज़िल / संजीब कुमार बैश्य / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:43, 7 जून 2018 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अनजाने
विचारों में खोया
मैं एक अनजानी जगह पर पहुँच गया।

और उस जगह ने
मुझे बदल दिया।

और विचार
चले गए दिमाग को छोड़कर।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय

लीजिए, अब अँग्रेज़ी में मूल कविता पढ़िए
     Destination

Lost in some unknown thought
I reached an unnamed spot.
The spot renamed me
And the thought
Abandoned my mind.

–Sanjib Kumar Baishya