भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मदारी एैलै (बाल कविता) / प्रदीप प्रभात

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:57, 5 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रदीप प्रभात |अनुवादक= |संग्रह= }} {...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देखोॅ एक मदारी एैलै,
साथेॅ दू जम्बूरा एैलै।
तीन मिनट तोय डमरू बजैल कै,
चार गॉव मेॅ खेल देखैलकै।
भरी-भरी झोरा चौॅर लानलकै,
रातीं सबनें मिली-जुली खैलकै।
गोला मुँह सेॅ पाँच निकालै,
हाथ मेॅ लै छोॅ-छोॅ बार उछालै।
सात आम रोॅ गाछ लगैलकै,
ओकरा सेॅ पेड़ा आठ बनैलकै।
बंदर केॅ नौ बार नचैलकै,
दस मिनट रोॅ खेल देखैलकै।
घोड़ा पर चढ़ै मदारी,
खैलकै सबनेॅ तीन-तीन थारीॅ।
हाथी साईकिल चलाबै छै,
सवारी जेकरोॅ बन्दर छै।