Last modified on 21 दिसम्बर 2010, at 01:33

मनुष्यता पहाड़ ही ढोती / लाला जगदलपुरी

अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:33, 21 दिसम्बर 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=लाला जगदलपुरी |संग्रह=मिमियाती ज़िन्दगी दहाड़…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

भोर के हंस चुग गए मोती,
बैठ कर तमिस्त्रा कहीं रोती ।

मौत बेवक़्त भला क्यों आती ?
ज़िन्दगी यदि ज़हर नहीं बोती ।

अस्मिता चिंतन की हरने को,
चिंता रात भर नहीं सोती ।

आदमी व्यक्त जब नहीं होता,
चेतना, चेतना नहीं होती ।

वक़्त बदले कि व्यवस्था बदले
मनुष्यता, पहाड़ ही ढोती ।