भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"मन-माला गुँथे हो / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 34: पंक्ति 34:
 
काटें कुछ मिलके
 
काटें कुछ मिलके
 
जुड़े रहना।
 
जुड़े रहना।
7778
+
78
 
लगी नज़र
 
लगी नज़र
 
काँटों से भर गई
 
काँटों से भर गई

23:42, 6 सितम्बर 2019 के समय का अवतरण

71
रिश्तों के चाकू
निशदिन प्रहार
जीना दूभर।
72
तुम हो दूर
मन की किताब को
पढ़ेगा कौन?
73
छलिया लोग
सीढ़ी बनाके चढ़े
गर्व में चूर।
74
वक़्त के हाथ
आज हम हैं हारे
कल जीतेंगे।
75
ओर न छोर
नफ़रत की डोर
अपने थामे।
76
हे मेरे मन !
आँसू नहीं बहाना
दूर है जाना।
77
प्रीत की डोर
काटें कुछ मिलके
जुड़े रहना।
78
लगी नज़र
काँटों से भर गई
हर डगर।
79
कितने मोड़?
मिठबोले पथिक
गए हैं छोड़।
80
दर्द तुम्हारा
मेरे रोम-रोम में
भ्रूण -सा पले।
81
क्रूर है काल
कभी तो बदलेगी
इसकी चाल।
82
चलती बार
होठों पर ओंकार-
नाम तुम्हारा।
83
प्रलय आए
हर साँस में रहो
अनन्त तक।
84
जीवन -ज्योति !
मन-माला गुँथे हो,
ज्यों सच्चे मोती।

-0-